Follow by Email

Sunday, November 21, 2010

नीर की तलाश में

नीर की तलाश में
नीर की तलाश में
नीर विहीन
इंद्रावती
बहती है मेरे घर के तीर
कभी छूता था उसका जल
मेरे घर की चौखट को
बरसात में
चौखट भी अब कहती
मै हो गई अब नीर विहीन

मेरे तट पर बजती
महादेव की घण्टियां
मेरे जल से
बुझती
लोगों की प्यास
मेरे तट पर
मिलती है
मृत आत्माओं को षांति
मेरे जल में झिलमिलाते हैं
आस्था के दीप
धुलते हुए गंदे कपड़े
नंग-धड़ंग उछलते कूदते
नहाते बच्चे मेरे जल में
मैं किस के पास जाकर गाऊँ
अपना दुखड़ा
मैं भी तो हूँ अब नीर विहीन

मेरा जल चोरी हो गया
मैं हो गयी अपहृत
मेरी ही सहयोगिनी ने
मुझे लील लिया या
मुझे जबर
उसके हलक में
उढ़ेल दिया
ये
तो जोरा ही जाने

काला हाण्डी मेरा मायका
वहीं जन्मी मैं
बस्तर में पली बड़ी
जगदलपुर और चित्रकूट
का स्नेह मिला
गोदावरी मेरी ससुराल
जहाँ मेरे नाम का
असतित्व हो गया विलीन
और मैं बन गयी गोदावरी
जोरा ने मुझे चुरा लिया
मेरा साथ मेरे मायके ने
ही नहीं दिया
गोरियाबहार और नारंगी नदी
ने दिया मुझे सहारा

जन-जन की प्यास बुझाने वाली
मैं खुद प्यासी हूँ
इस आस में
हाथ उठेंगे जन-जन के
बुझाने मेरी प्यास, बस्तर की प्यास
आस्था की प्यास, विश्वास की प्यास
मुझे है विश्वास, मुझे है विश्वास

No comments:

Post a Comment