Follow by Email

Friday, July 22, 2011

Bastar ka sahitya: Hidi Kavita- मैं पानी हूँ

Bastar ka sahitya: Hidi Kavita- मैं पानी हूँ: "मैं पानी हूँ आपकी आँखों का पानी प्यासे की प्यास बुझाने वाला पानी रंगहीन, गंधहीन पानी झील नदी नालों पोखरों तालाब और कुँए का पानी वर्ष..."

No comments:

Post a Comment