Follow by Email

Friday, July 22, 2011

Hidi Kavita- जल अब तो आजा


कुंभी के अब नहीं
होते दर्शन
तालाब उदास खग-विहीन

शंख, कमल, तरंग
अब दिखते नाही
टोंटी भी है जल-विहीन

शहर उठा है आस लगाए
गुण्डी, धड़ा, मटका लिए
लड़ते रहते
बात-बात पर
करते तू..तू, मैं..मैं
टोंटी उनको खूब निहारती
मैं अब तक हूँ नीर विहीन

मछली ने अब चलना सीख लिया
जीना सीख लिया
जल-विहीन
अब तो आजा अब तो आ जा
टोंटी भी अब आस लगाती
पानी आजा पानी आजा

No comments:

Post a Comment