Follow by Email

Wednesday, July 20, 2011

Hindi Kavita- Bachapan


लड़ते-झगड़ते
और शिकायत करते
ये छोटे-छोटे बच्चे
फिर मिल जाते
क्षण भर में
खेलते-कूदत
किलकारियाँ भरते
ये छोटे-छोटे बच्चे

इनको खेलता देख
जी उठता हूँ मैं
इनको झगड़ता देख
बचपन की यादों में
खो जाता हूँ मैं
इनकी निश्छल हँसी
कराती है मुझे
मंदिर का-सा अहसास

काश समय का चक्र
उलटा घूम जाता
और मुझे
अपना बचपन पुनः मिल पाता

No comments:

Post a Comment